September 27, 2021

My UP News

My UP NEWS

खान सर और RK श्रीवास्तव के नन्हें स्टूडेंट्स ‘गूगल’ से भी तेज!

खान सर और RK श्रीवास्तव के नन्हें स्टूडेंट्स ‘गूगल’ से भी तेज!

नई दिल्ली। भारत की इस महान भूमि पर अभी तक न जाने कितने महापुरुष पैदा हुए हैं, जिन्होंने अपने प्रतिभा से देश का नाम रोशन किया है और जिन पर हमें बहुत गर्व है। आर्यभट्ट की इस भूमि पर आज भी प्रतिभाओं की कमी नहीं है।

आज हम आपको खान सर और आरके श्रीवास्तव के ऐसे ही प्रतिभावान नन्हे स्टूडेंट्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें (बिहार का Google Boy और Google Girl ) भी कहा जा रहा है। ये बच्चे उम्र में काफी छोटे होते हैं, लेकिन जब आप इनके बारे में जानेंगे, तो आप भी बहुत हैरान और गौरवान्वित महसूस करेंगे।

बिहार के लखीसराय जिले के एक छोटे से गाँव से आने वाले नन्हे बच्चों अंकित और शिवानी का सामान्य ज्ञान अद्भुत है। वही बिहार राज्य के रोहतास जिले का वॉन्ड़र बॉय शिवम गुप्ता अभी वर्ग 5 में है परन्तु 10 वी के प्रश्नो को करता है हल,आरके श्रीवास्तव का यह नन्हा स्टूडेंट्स वर्ग 5 में ही 10 वी के TRIGONOMETRY के सारे theory को किसी प्रोफेसर की तरह समझाता है।

वहीं Science में किसी भी topic पर घंटो LECTURE देने की क्षमता इस नन्हें बालक में है। ये बच्चे पलक झपकते हर सवाल का जवाब देते हैं। आपको बता दें कि बिहार राज्य और अपना देश अब तक इन बच्चों के लिए पूरी तरह से अनजान थे। खान सर, जो पटना में Khan GS Research Center कोचिंग चलाते हैं और आरके श्रीवास्तव रोहतास जिले के बिक्रमगंज में वॉन्ड़र किड्स प्रोग्राम चलाते है।

जहाँ वर्ग 5 से 7 तक के स्टूडेंट्स 10 वी के प्रश्नो को हल करते है, तो वर्ग 9 से 10 वी के स्टूडेंट्स 11वी, 12वीं और GRADUATION तक के गणित के पाठ्यक्रम को पढ़ते नजर आ रहे हैं। आपको बता दें कि पटना में कोचिंग चलाने वाले Khan Sir और बिहार के आरके श्रीवास्तव अपने शैक्षणिक कार्यशैली के माध्यम से बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं। आपको बताते चलें कि आरके श्रीवास्तव गूगल बॉय कौटिल्य पंडित के भी गुरु है।

खान सर ने अपने चैनल पर एक वीडियो साझा करते हुए सभी को इन दोनों बच्चों के बारे में बताया। बिहार के लखीसराय के एक छोटे से गाँव से आने वाले अंकित की उम्र फिलहाल केवल 7 साल है, जबकि शिवानी की उम्र सिर्फ 5 साल है, लेकिन इतनी कम उम्र में भी ये बच्चे गूगल जैसे हर सवाल का जवाब देते हैं।

खान सर ने इन बच्चों से भूगोल, राजनीति विज्ञान और इतिहास के कई कठिन प्रश्न पूछे, लेकिन इन बच्चों के पास उन सभी सवालों के जवाब थे।

जब खान सर 70 समुद्रों और देश के नामों के बारे में पूछा तो इस छोटी सी दिखने वाली लड़की ने बिना रुके सभी नामों को एक साथ बताया। इसे देखकर खान सर भी दंग रह गए। जाहिर है, इतनी कम उम्र की लड़की के लिए इतने सारे नाम याद रखना आसान नहीं है।

WONDER KIDS PROGRAM क्या है?

आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक आँगन में वर्ग 3 से स्टूडेंट्स जुङना प्रारम्भ कर देते है। प्रत्येक दिन 4 से 5 घंटे तक स्टूडेंट्स को शिक्षा दिया जाता है। प्रत्येक रविवार को सुबह 7 बजे से शाम 7 तक लगातार 12 घंटे गणित का गुर आरके श्रीवास्तव सिखाते है। इसके अलावा आरके श्रीवास्तव के द्वारा चलाया जा रहा स्पेशल नाईट क्लासेज भी देश मे चर्चा का विषय बना हुआ।

अभी तक आरके श्रीवास्तव स्टूडेंट्स को सेल्फ स्टडी के प्रति जागरूक करने हेतु 450 क्लास से अधिक बार पूरे रात लगातार 12 घंटे गणित का गुर सिखा चुके है। वंडर किड्स प्रोग्राम के तहत स्टूडेंट्स सिर्फ 2 से 3 वर्षो मे 5 हजार से 7 हजार घंटे तक आरके श्रीवास्तव के शैक्षणिक आँगन मे गणित का गुर सीख चुके होते है।

जब ये स्टूडेंट्स वर्ग 7- 8 मे पहुँचते है तो ये स्टूडेंट्स 11वी, 12वी के सलेब्स को पूरे कॉन्सेप्ट के साथ पढ़ चुके होते है। वर्ग 10 वी में जब ये स्टूडेंट्स जाते है तो कई बार 11 वी, 12 वी के पाठ्क्रम सहित आईआईटी प्रवेश परीक्षा के पिछले 40 वर्षों के question bank को कई बार revision कर चुके होते है।