November 28, 2021

My UP News

My UP NEWS

कोरोना काल: गांव और शहर में तेजी से बढ़ी बेरोजगारी, तीसरी लहर की आशंका से और बढ़ा डर

नई दिल्ली (DVNA)। कोरोना के चलते पिछले कुछ वक्त में भारत में बेरोजगारी बहुत तेजी से बढ़ी है। भारतीय अर्थव्यवस्था निगरानी केंद्र (सीएमआईई) की रिपोर्ट में इसको लेकर चौंकाने वाले आंकड़े जारी हुए हैं।
सोमवार को जारी इसकी रिपोर्ट के मुताबिक 18 जुलाई तक जहां भारत में बेरोजगारी दर 5.98 फीसदी पर थी, वहीं 25 जुलाई तक यह 7.14 फीसदी पहुंच चुकी है। इसमें बताया गया है कि शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में बेरोजगारी में इजाफा हुआ है। हालांकि महीनावार आंकड़ों में बेरोजगारी की यह दर कुछ कम हुई है। जून में यह 10 फीसदी तक थी, लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के बाद आर्थिक मोर्चे पर कुछ सुधार हुआ है, जिससे इसमें कमी आई है। विशेषज्ञों का दावा है कि कोरोना को नियंत्रित करने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों के चलते बेरोजगारी ज्यादा बढ़ी है। वहीं तीसरी लहर की आशंका आगे के लिए भी चिंताजनक तस्वीर पेश कर रही है।
व्यापारिक गतिविधियों में भी कमी
सीएमआई श्रमिक बाजार पर निगाह रखता है। इसके मुताबिक पिछले हफ्ते शहरी बेरोजगारी दर का आंकड़ा 8.01 पहुंच चुका है। पिछले हफ्ते यह 7.94 फीसदी पर था। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी दर 6.75 पर पहुंच चुकी है, जो कि पिछले हफ्ते काफी नीचे 5.1 पर थी। वहीं सोमवार को ही व्यापार के फैलाव से जुड़ा आंकड़ा भी जारी हुआ है। नोमुरा इंडिया बिजनेस रिजंप्शन इंडक्शन (एनआईबीआरआई) की तरफ से जारी आंकड़े गिरकर 95.3 पर पहुंच गए हैं, जो पिछले हफ्ते 96.4 पर थे। इन आंकड़ों में गिरावट व्यापारिक गतिविधियों में कमी को दिखाता है। इन आंकड़ों को तैयार करने वाली संस्था के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर से पहले भी ये आंकड़े ठीक थे। हालांकि महामारी से पहले की तुलना में इनमें 4.7 फीसदी की गिरावट आ चुकी थी।
टीकाकरण की रफ्तार पर बहुत कुछ निर्भर
सोमवार को जारी इन आंकड़ों पर क्रिसिल से जुड़े अर्थशास्त्री गौतम शाही कहते हैं कि यह दिखाता है कि बेरोजगारी में किस हद तक इजाफा हुआ है। हालांकि कई अर्थशास्त्री इस बात पर सहमत हैं कि आने वाले हफ्तों में बेरोजगारी की दर घटेगी और अर्थव्यवस्था सुधरेगी। लेकिन उनका मानना है कि यह सब टीकाकरण की रफ्तार पर निर्भर करेगा। नोमुरा सिक्योरिटीज से जुड़ी सोनल वर्मा के मुताबिक अगस्त में टीकाकरण की रफ्तार में इजाफा होगा। लेकिन हाल ही में जिस तरह से वैक्सीनेशन की रफ्तार में गिरावट आई है उससे देरी होने की संभावना बढ़ रही है।

Auto Fatched From DVNA