November 27, 2021

My UP News

My UP NEWS

बुखार के साथ शरीर पर दानें दिखें तो चिकित्सक से संपर्क करें, संपन्न हुई जिला स्तरीय कार्यशाला

महराजगंज-डीवीएनए। सघन निगरानी एवं त्वरित रिपोर्टिंग से ही खसरे का उन्मूलन हो सकता है । इसके लिए जरूरी है कि सभी फ्रंट लाइन वर्कर्स नियमित भ्रमण के दौरान सघन निगरानी करें, यदि किसी बच्चे या व्यक्ति में बुखार के साथ शरीर में दानें दिखें तो इसकी त्वरित सूचना अपने प्रभारी चिकित्सा अधिकारी को दें तथा मरीज के उपचार में सहयोग प्रदान करें।
यह बातें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.अशोक कुमार श्रीवास्तव ने केएमसी डिजिटल हाॅस्पिटल में खसरा उन्मूलन के लिए डब्ल्यूएचओ द्वारा प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण के लिए आयोजित जिला स्तरीय कार्यशाला में कहीं।
उन्होंने कहा कि खसरे की बीमारी में बुखार आता है। शरीर पर दानें पड़ते हैं। ऐसी बीमारियों से निजात पाने के लिए टीकाकरण जरूरी है। उन्होंने कहा कि इस प्रशिक्षण में मिली जानकारी के आधार पर सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारी अपने अपने क्षेत्र की फ्रंटलाइन वर्कर्स को प्रशिक्षित करें, ताकि फ्रंट लाइन वर्कर्स (एएनएम,आशा व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता) नियमित भ्रमण के दौरान मिले ऐसे लक्षण वाले बच्चों व व्यक्तियों के बारे में त्वरित सूचना अपने संबंधित प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को दे सकें, ताकि ऐसे मरीजों का त्वरित उपचार शुरू हो सके।
डब्ल्यूएचओ के सर्विलांस मेडिकल आफिसर डाॅ. विकास यादव ने कहा कि किसी भी संक्रामक बीमारी की ठीक से निगरानी और रिपोर्टिंग हो तो उस पर काबू पाया जा सकता है। इसके लिए बेहतर माइक्रोप्लान तैयार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि बच्चों को कई बीमारियों से बचाने के लिए टीकाकरण कराया जाता है। ऐसे टीके में एक टीका मिजिल्स रूबेला का भी है जो खसरा की रोकथाम के लिए सहायक होता है। बुखार के साथ शरीर पर दोनें वाले चिन्हित मरीजों के खून की जांच निरूशुल्क करायी जाती है।
जनपद स्तरीय कार्यशाला में उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी व जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. आईए अंसारी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. एके राय, डाॅ.वीवी सिंह, विभिन्न सीएचसी, पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी व ब्लाॅक कम्यूनिटी प्रोसेस मैनेजर्स आदि ने प्रतिभाग किया।

Auto Fatched From DVNA