July 24, 2021

My UP News

My UP NEWS

गजब का थाना प्रभारी, भारत के संविधान से हटकर बनाया अपना ही कानून

इंदौर (डीवीएनए)। प्रदेश के एकमात्र खजराना थाना प्रभारी ने भारत के संविधान से हटकर अपना ही कानून बनाया है। जिससे क्षेत्र की जनता को तुरंत न्याय मिल रहा है। इतना जरूर है कि इस न्याय के लिए न्याय पाने वाले को अपनी जेब ढीली करना पड़ेगी। इनके बारे में कहा जाता है कि यह गरीबों के मसीहा हैं और हर गरीब की मदद उस राशन से करते हैं जो थाने में पहुंचने वाले आरोपियों से लिया जाता है। इसलिए इनकी कितनी भी शिकायत करो आला अधिकारी इन पर अत्याधिक मेहरबान है क्योंकि क्षेत्र की जनता को न्याय मिल रहा है।
इधर क्षेत्र में चोरियां अवैध शराब जुआ-सट्टा यहां तक कि मादक पदार्थ की बिक्री हो रही है जिससे युवा पीढ़ी बिगड़ रही है, लेकिन इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। क्षेत्र की जनता का कहना है कि लाखों रुपए की चोरी जिसमें मकान मालिक ने सीसीटीवी के फुटेज भी दिए, लेकिन वह चोरी आज तक नहीं पकड़ी गई। यह बात आला अधिकारियों को भी मालूम है, क्योंकि शिकायत उनके पास भी पहुंच चुकी है।
क्षेत्र की जनता का कहना है कि अतिश्योक्ति नहीं होगी कि थाना प्रभारी दिनेश वर्मा थाना प्रभारी कम प्रॉपर्टी ब्रोकर ज्यादा बन गए हैं। अहमद नगर स्थित दूसरी कॉलोनियों के जमीन के मामले अब स्क्वायर फिट के हिसाब से निपटाए जा रहे हैं। वहीं समाजसेवी बन फोटो खिंचवाने का भूत भी थाना प्रभारी को चढ़ चुका है। विभिन्न मामलों में पकड़े गए आरोपितों से 20 से 50 की संख्या में राशन किट मंगवाने के नाम से बांटी गई व खूब वाहवाही लूटी गई। इन सब चक्कर में उलझे पॉश इलाके में अपराध कितनी तेजी से बढ़ गए हैं और नशे का कारोबार दिन दुनी रात चैगनी रफ्तार से बढ़ रहे हैं। इधर इन्होंने हाल ही में एक किराएदार की ऐसी मदद की जिसे प्रदेश का कोई भी थाना प्रभारी नहीं कर सकता।
मामला यह था कि किराएदार से मकान मालिक को छः लाख रुपए लेना था। मकान मालिक ने उसका सामान रख लिया, थाना प्रभारी ने यह सामान किराएदार को तुरंत दिलवा दिया। अगर मामला नहीं आना जाता तो उसमें कई दिन लग सकते थे। इस पर थाना प्रभारी का कहना है कि कोई भी मकान मालिक दुकान या घर में रखा किसी का सामान नहीं रोक सकता। जबकि कानून की नजर में ऐसे मामले में एसडीएम कोट्र में भी जा सकते हैं।

Auto Fatched From DVNA