September 24, 2021

My UP News

My UP NEWS

बीजेपी विधायक राकेश सिंह बघेल के घर सीबीआई का छापा, भाई का है कंस्ट्रक्शन कंपनी से कनेक्शन

गोरखपुर (डीवीएनए)। सीबीआई ने सपा सरकार में हुए रिवर फ्रंट घोटाले में सोमवार को बड़ी कार्रवाई शुरू की है। इसकी अलग-अलग टीमों ने सोमवार की सुबह प्रदेश के 1- जिलों में एक साथ छापामारी की। इसी क्रम में राप्तीनगर स्थित गणेशपुरम में विधायक राकेश सिंह बघेल के घर भी सीबीआई का छापा पड़ा है। बताया जा रहा है कि विधायक के भाई उस कंस्ट्रक्शन कंपनी से जुड़े हैं जो इस मामले में शामिल है। सीबीआई टीम सुबह नौ बजे के करीब विधायक के आवास पर पहुंची। तबसे लगातार छानबीन जारी है। आवास के बाहर मीडिया का जमावड़ा लगा है।
मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई ने प्रदेश के 1- जिलों में 42 ठिकानों पर एक साथ तलाशी अभियान शुरू किया है। अकेले लखनऊ में ही 25 ठिकानों पर छापामारी हो रही है। लखनऊ, गोरखपुर के अलावा अलवर, सीतापुर, रायबरेली, गाजियाबाद, नोएडा, मेरठ, बुलंदशहर, इटावा, अलीगढ़, एटा, मुरादाबाद, आगरा और कोलकाता में एक साथ छापेमारी की गई है। लखनऊ में सीबीआई पांच बड़े इंजीनियरों की तलाशी ले रही है। 407 करोड़ रुपए के इस घोटाले में सीबीआई ने कई सुपरिंटेंड इंजीनियर और अधिशासी इंजीनियरों के खिलाफ केस दर्ज किया है।
इस मामले में सीबीआई ने सिंचाई विभाग की ओर से लखनऊ के गोमतीनगर थाने में दर्ज कराए गए मुकदमे को आधार बनाकर -0 नवंबर 2017 में नया मुकदमा दर्ज किया था। यह एफआईआर प्रदेश सरकार के निदे्रश पर दर्ज कराई गई थी। मुकदमे में सिंचाई विभाग के तत्कालीन मु य अभियंता (अब सेवानिवृत्त) गुलेश चंद, एसएन शर्मा व काजिम अली, तत्कालीन अधीक्षण अभियंता (अब सेवानिवृत्त) शिव मंगल यादव, अखिल रमन, कमलेश्वर सिंह, रूप सिंह यादव और अधिशासी अभियंता सुरेश यादव नामजद हैं। सीबीआई ने सिंचाई विभाग से हासिल पत्रावलियों की जांच करने के अलावा कुछ आरोपियों से पूछताछ भी की।

Auto Fatched From DVNA