October 20, 2021

My UP News

My UP NEWS

वतन की मुहब्बत का बेमिसाल जज्बा रखते थे अब्दुल कय्यूम अंसारी: मुफ्ती सलीम नूरी

बरेली-डीवीएनए। तहरीके जंगे आजादी और मुल्क को जालिम अंग्रेजी हुकूमत के पंजों से निकालने में हिन्दुस्तान के मुस्लिम रहनुमाओं, अवाम व ख्वास, उलमा, मदरसे के तलबा, मस्जिदों के इमाम और मुफ्तीयान किराम ने बढ चढ़ कर हिस्सा लिया था। लाखों उलमा, समाजी व सियासी रहनुमाओं और आम लोगों को फांसी पर चढ़ाया गया। विभिन्न जेलों में कैद व बंद की कठिनाईयाँ यहाँ तक कि काला पानी की सजायें भी दी गई । मुसलमानों को अंग्रेजों के खिलाफ आवाज बुलंद करने के कारण अपनी जमीन व जायदाद की जब्ती व नीलामी और तबाही व बर्बादी का भी सामना करना पड़ा।
आलाहजरत के मदरसा मंजरे इस्लाम के वरिष्ठ शिक्षक मुफ्ती मोहम्मद सलीम बरेलवी साहब ने मंजरे इस्लाम की ई-पाठशाला द्वाराआयोजित एक कार्यक्रम मे यह विचार व्यक्त किए ।
दरगाह के मीडिया प्रभारी नासिर कुरैशी ने बताया कि दरगाह प्रमुख हजरत सुब्हानी मियां साहब और सज्जादानशीन हजरत अहसन मिया साहब की देखरेख मे चलने वाले मदरसा मंजरे इस्लाम मे जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी जनाब जगमोहन सिंह जी के तत्वाधान मे सम्पन्न हुए इस कार्यक्रम के माध्यम से मुस्लिम समुदाय के छात्रो, युवा पीढ़ी को आज मुफ्ती सलीम नूरी साहब ने बताया कि आज ही के दिन दिनांक 1 जुलाई 1905 मे जंगे आजादी के इन्हीं योद्धाओ में एक अहम योद्धा अब्दुल कय्यूम अंसारी साहब का जन्म हुआ था जिन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ एक मजबूत आवाज बुलंद की, अंग्रेजी हुकूमत की ईट से ईट बजाने के लिये राष्ट्रीय स्तर पर चलने वाली तहरीके जंगे आजादी में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने की वजह से कई बार जेल जाना पड़ा। अब्दुल कय्यूम अंसारी 01 जुलाई 1905 ई0 सूबा बिहार के रोहतास जिले के ढेहरी आनसोन में पैदा हुये। इनके पिता का नाम मौलाना अब्दुल हक था इन्होंने बेसिक शिक्षा सहसराम और ढेरही आनसोन के हाई स्कूल में हासिल की। वह अअसहयोग आंदोलन व नान को-आपरेशन मूवमेंट के 14 साल की उम्र में हिस्सा बन गये। वह भारत विभाजन के धोर विरोधी थे। इन्होंने मुस्लिम पसमांदा समाज की तरक्की के लिये जिंदगी भर प्रयास किए । गाँधी जी इनसे बहुत मुहब्बत रखते थे और यह गाँधी जी के बहुत करीब थे। अंसारी साहब के पूर्वज हजरत शैख शाह आलम, हिमायूँ की हुकूमत में चकलादार के पद पर ब्राजमान थे। आखिरी उम्र में वह रिटायर होकर अपने वतन अकबरपुर और बाद में अपनी आबाद कर्दा बस्ती नोली जिला गाजीपुर यू0 पी0 में रहने लगे। इंकलाब 1857 ई0 तक इस खानदान का पेशा किसानी व कारोबार रहा।1876 ई0 में सोन नदी के किनारे स्थित ढहरी आनसोन, सहसराम जिला शाहबाद अब रोहतास बिहार आकर आबाद हो गया। अब्दुल कय्यूम अंसारी साहब के नाना हजरत मौलाना अब्दुल्लाह गाजीपुरी आलिमें दीनसुफी बुजुर्ग थे उनकी माता जी मोहतरमा सफिया खातून हाफिजे र्कुआन और आलिमा व फाजिला थीं वह इतने जहीन थे कि 8 साल की उम्र में उर्दू, अरबी, फारसी और दीनयात का अच्छा खासा ज्ञान हासिल कर लियाउनके केवल 12, 13 वर्ष की आयु से ही वतन की आजादी का जज्बा उनके दिल में अंगड़ायी लेने लगा जब वह सिर्फ 14 बरस के थे सहसराम हाई स्कूल के छात्र थे कि 1919 ई0 में मौलाना मुहम्मद अली जौहर, मौलाना मुहम्मद अली शोकत के साथ आजादी की तहरीक का हिस्सा बन गये। 1920 ई0 में 15 साला अब्दुल कय्यूम अंसारी ढहरी आनसोन की तहरीके आजादी के अहम ओहदेदार हो गये और उसी साल कांग्रेस के विशेष सम्मेलन कलकत्ता में सूबा बिहार से डेलीगेट की हैसियत से शरीक हुये यही वह गाँधी जी से मिले और वह हमेशा के लिये उनके साथ कांधे से कांधा मिलाकर मुल्क को आजादी कराने की तहरीक में कूद पड़े ।
अंग्रेजी हुकूमत उनकी तलाश में पीछे पड़ गयी। घर पर पुलिस के छापे पड़े तलाशी हुयीं फरवरी 1922 ई0 में अंग्रजी पुलिस ने अब्दुल कय्यूम अंसारी को उनककी बागियाना सरगर्मीयों के कारण गिरफ्तार कर लिया लेकिन सहसराम जिला जेल की सख्तियाँ भी उन्हें तहरीके आजादी से दूर न कर सकीं। 21 साल की उम्र में वह जिस अंगे्रजी कॉलेज में पढ़ रहे थे उसी वक्त मुल्क में गाँधी जी ने असहयोग आआन्दोलन का ऐलान कर दिया तो इनहोने अंग्रेजी स्कूल से अलग होकर अपने साथियों के साथ मिलकर अपना देसी स्कूल स्थापित कर लिया इस जद्दोजहद के दौरान कुछ सालों तक उन्होंने अलीगढ़ और कलकत्ता जाकर भी शिक्षा ग्रहण की। वतन की इज्जत और वकार के लिये कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते ।जब अंग्रजों ने ज्यादतियों का शिकार मोमिन बुनकर बिरादरी को बनाया तो अब्दुल कय्यूम अंसारी जैसे लोग उसके खिलाफ उठ खड़े हुये उन्हीं हालात की वजह से 1913 ई0 में कलकत्ता में मोमिन तहरीक की स्थापना हुई जिसके संस्थापकों में ज्यादातर बिहार के ही लोग थे फिर 1928 ई0 में यह तहरीक आॅल इण्डिया मोमिन कान्फ्रेंस में तब्दील हो गयी । उसके बाद खुद को मोमिन काफ्रेंस के लिये वक्फ कर दिया और बहुत जल्द बिसाते सियासत पर छा गये। मोमिन बिरादरी उनके गिर्द जमाँ हो गयीं क्योंकि उनकी रहनुमाई में उसे अपने समाजी व सियासी उमंगों के पुरा होने के आसार नजर आने लगे। आजादी के बाद वह बिहार गवर्मेंट में वजीर भी बने। 1968 ई0 के असेम्बली के चुनावों वह भारी अकसरियत के साथ ढहरी हलके से कामयाब हुये ।
उन्हें इल्म व अदब से भी गहरी दिलचस्पी थी। ढहरी आनसोन से निकलने वाली हफ्तावार मैगजीन ‘‘अल इस्लाम’’ की एडीटिंग की जिम्मेदारी उन्होंने 1991 से लेकर 1929 तक निभाई। 1919 ई0 में माहनामा ‘‘मसावात’’ के संपादक बने। 1919 में रोजनामा ‘‘साथी’’ और 1925 में इन्होंने माहनामा ‘‘तहजीब’’ के एडीटर की सूरत में जिम्मेदारी निभाई। अब्दुल कय्यूम अंसारी साहब ‘‘अंजुमन तरक्की उर्दू ष्से भी वाबस्ता रहे। 1915 से 1951 तक पटना यूनीवर्सिटी के सेनेट फैलो और 1925 में अलीगढ़ यूनीवर्सिटी के कोट मेम्बर रहे। इन्होंने कभी भी अंग्रेजी हुकूमत के आगे घुटने न टेके। मुल्क को आजादी का परवाना दिलाकर आखिरकार तहरीके आजादी का यह कामयाब हीरो 18 जनवरी 1973 ई0 को चुनाव छेत्र के दौरे के दौरान अचानक दिल का दौरा पड़ जाने से हमेशा के लिये दुनिया छोड़ गया और ढहरी आनसोन में इन्हें सुपुर्दे खाक कर दिया गया। हुकूमत हिन्द ने उनके नाम से एक डाक टिकट भी जारी किया है।
मंजरे इसलाम आई0टी0सेल अध्यक्ष जुबैर रजा खान साहब ने कहा कि आजादी के इन सितारो से हमे प्रेरणा लेकर देश को मजबूत करने के कार्य कर आपसी सौहार्द को बढावा देना होगा ।

Auto Fatched From DVNA