June 17, 2021

My UP News

My UP NEWS

प्रदेश की जेलों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है

प्रदेश की जेलों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है

भोपाल-डीवीएनए। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में जिलों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। प्रदेश की जेलों में अभी तक 300 बंदी संक्रमित हुए हैं। जेल प्रशासन कोरोना की रोकथाम के लिए प्रयास कर रहा है, लेकिन क्षमता से अधिक बंदी होने के कारण संकट से बचने के उपाय आसान नहीं हैं। जेल प्रशासन ने संख्या कम करने के लिए बंदियों को पैरोल पर छोड़ा है। हालांकि जितने बंदियों को पैरोल मिली, उससे अधिक संख्या में नए बंदी जेल पहुंचे हैं।
प्रदेश की 131 जेलों में करीब 50 हजार बंदी हैं जबकि इसमें बंदियों को रखने की संख्या कम करने के लिए 4500 बंदियों को पैरोल पर छोड़ा गया, लेकिन कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान करीब आठ हजार नए बंदी जेल पहुंचे हैं। इससे बंदियों की संख्या कम नहीं हुई है और शारीरिक दूरी रखने जैसे उपाय करने में दिक्कत आ रही है। इस बीच जेलों में संक्रमण पहुंच चुका है। दूसरी लहर के दौरान विभिन्न जेलों में 300 बंदी संक्रमित हुए हैं। ऐसे हालात में जेल प्रशासन भी परेशान है।
हालांकि अधिकारिक तौर पर यही कहा जा रहा है कि हालात बेकाबू नहीं हुए हैं। जेलों में संक्रमण न फैले, इससे बचने के लिए नए बंदियों की आरटीपीसीआर जांच अनिवार्य की गई है। उन्हें 15 दिन आइसोलेट किया जा रहा है। बंदियों को अलग रखने के लिए बैरकों में इंतजाम किए गए हैं। इंदौर और उज्जैन में अस्थायी जेल बनाकर भी आइसोलेट करने की व्यवस्था की गई है। बंदियों के स्वास्थ्य पर भी नजर रखी जा रही है। लक्षण दिखते ही उन्हें चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। पुलिस उपमहानिरीक्षक (जेल) संजय पांडे ने बताया कि जेलों में संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है। सुरक्षा के सभी उपाय किए जा रहे हैं।